Thu. Nov 21st, 2019

Miss Zesty

A Digital Women's Magazine

जिंदगी

1 min read

जिंदगी एक ऐसा शब्द जिसमे हमारी पूरी दुनिया समाई हुई है,एसी दुनिया जिसमे कब क्या हो जाए पता नही|
हम हमारी जिंदगी मे कई छोटे छोटे सपने देखते है और उसे पूरा करने की कोशिश करते है|
उन सपनो को
पूरा करते वक़्त हमारी जिंदगी मे कई एसे पल आते है जिनके बारे मे हमने सोचा भी नही था की हमारे साथ ऐसा हो सकता है या हम मे ये खामियाँ है|
हम सोचते है की हमारे साथ एसा क्यूँ हुआ? क्या सही मे हम ग़लत
है|
कई बार हम ग़लत नही होते फिर भी हमे ग़लत ठहराया जाता है और जब वही ग़लती सामनेवाला करता है
तो उसकी ग़लती नज़र अंदाज की जाती है ?
क्यू होता है एसा ? जब उसे उसकी ग़लती का एहसास दिलाया जाता
है तो उसे ग़ुस्सा आ जाता है?

एसे वक़्त हमे समझमें नही आता की हम क्या करे|कई बार हम खुदको उसके सामने छोटा महसूस करते है |

घुट घुट के हम अपनी जिंदगी जीने लगते है |अपना अस्तित्व अपना स्वाभिमान सबकुछ खो देते है|अगर हम खुदके लिए जीना भी चाहे तो बाकी सारे रिश्ते बिखेर सकते है यही सोच के हम चुप चाप अपनी जिंदगी जीते हर दर्द सह लेते है|शायद एक दिन हमारे जिंदगी मे कोई चमत्कार होगा या कोई बदलाव आएगा |पर क्या ये सही होगा?

किसी के पास हमारे सवाल का जवाब भी नही माँग सकते |क्यूकी जिंदगी एसे दोहराए पे आ जाती है जहा कौन अपना कौन पराया समझ मे नही आता|और हम वक़्त के हवाले हमारी जिंदगी छोड़ देते है|

अंत मे यही कहूँगी
“ये जीवन है एक मेला
खुशी और गम है इसके साथी
मुश्किले है इसकी इम्तहान
जो होता है इस इम्तहान मे उत्तीर्ण
वो है इस दुनिया मे सबसे निराला|”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Copyright © All rights reserved. Newsphere by AF themes.